नई दिल्ली

राहुल गांधी बोले- हिन्दुस्तान का किसान कोई तोहफा नहीं मांग रहा, वह सिर्फ अपना हक मांग रहा

एक बार फिर राष्ट्रीय राजधानी Delhi में हजारों की तदाद में किसान आंदोलन कर रहे हैं।

एक बार फिर राष्ट्रीय राजधानी Delhi में हजारों की तदाद में किसान आंदोलन कर रहे हैं। यह आंदोलन भारतीय किसान संघर्ष समिति के बैनर तले हो रहा है, जिसमें अलग-अलग क्षेत्रों और विभिन्न राज्यों से करीब 208 किसान और सामाजिक संगठन जुड़े हैं। बता दें, किसानों का कारवां बीते दिन दिल्ली हरियाणा के बॅार्डर पर बिजवासन के इलाके से चलकर 26 किलोमीटर की पदयात्रा के बाद शाम पांच बजे रामलीला मैदान पहुंचा और अब यहां से हजारों की संख्या में किसान आज संसद मार्ग पर पहुंच चुके हैं, जहां से आगे जाने के लिए अनुमति नहीं दी गई है। वहीं इसी बीच किसानों के संसद मार्च में समर्थन करने शरद यादव, सीताराम येचुरी, फारूक अब्दुल्ला समेत कई दिग्गज पहुंच चुके हैं। साथ ही कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी भी किसानों के समर्थन में पहुंचे। इस दौरान उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश, तेलंगाना और हर प्रदेश में जो आवाज उठ रही है, वह हिंदुस्तान के युवाओं की आवाज है जिसे आप कम नहीं कर सकते।  आप देश को भोजन देते हैं और हम आपको आपका हक जरूर देंगे। राहुल गांधी ने आगे कहा कि हिन्दुस्तान का किसान कोई तोहफा नहीं मांग रहा, वह सिर्फ अपना हक मांग रहा है।

ANI

@ANI

Rahul Gandhi at farmers’ protest in Delhi: Modi ji had promised MSP will be increased, PM promised bonus, but look at the situation right now, empty speeches are being given and nothing else

59 people are talking about this

गौरतबल है कि किसानों की सरकार से मांग है कि उन्हें कर्ज से पूरी तरह से मुक्त कर दिया जाए और फसलों की लागत का डेढ़ गुना मुआवजा दिया जाए। साथ ही अखिल भारतीय किसान संघर्ष समिति के बैनर तले इक्ट्ठा हुए किसान चाहते हैं कि एमएस स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट को पूरी तरह से लागू किया जाए।  फिलहाल पुलिस ने एडवाइजरी जारी कर दी है और किसान आंदोलन को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इतंजाम किए गए है। हालांकि आज रामलीला मैदान से ससंद की तरफ की तरफ जाने वाले ट्रैफिक पर असर पड़ने की उम्मीद है।

जानकारी के लिए आपको बता दें, इसके पहले 23 सिंतबर को हजारों की संख्या में किसान अपनी मांगों को लेकर राजधानी दिल्ली पहुंचे थे, लेकिन उस दौरान Delhi-यूपी के बॅार्डर पर किसान और पुलिस के बीच तीखी झड़प हुई थी। वहीं पुलिस ने आंसू गैस और पानी की बौझारों का भी प्रयोग किया था, लेकिन बाद में किसानों को दिल्ली में घुसने की इजाजत दिल्ली पुलिस ने दे दी।

इसके बाद हजारों की तदाद में किसान Delhi के किसान घाट पहुंचे और चौधरी चरण सिंह की समाधी पर फूल चढ़ाकर किसान क्रांति यात्रा को समाप्त कर दिया था।हालांकि पिछले आंदोलन की तुलना में इस बार दिल्ली पहुंचे किसानों का आंदोलन काफी हद तक अलग नजर आ रहा है। एक तरफ जहां किसानों की तदाद कम है तो वहीं इस बार किसान पिछली बार की तरफ सड़क पर ठहरने की बजाए सामुदायिक भवन में ठहरे हुए थे।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker