उत्तरप्रदेश

यूपी के अकेले चुनाव लड़ने के ऐलान से कांग्रेसियों के चेहरे खिले

लोकसभा चुनाव में अकेले उतरने के कांग्रेस आलाकमान के फैसले के बाद उत्तर प्रदेश में कांग्रेसियों के चेहरे खिल उठे हैं।

लखनऊः लोकसभा चुनाव में अकेले उतरने के कांग्रेस आलाकमान के फैसले के बाद उत्तर प्रदेश में कांग्रेसियों के चेहरे खिल उठे हैं। प्रदेश में राजनीति के हाशिये पर पहुंची कांग्रेस ने खुद को उबारने के लिये वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी (सपा) के साथ गठबंधन किया था मगर इसके निराशाजनक परिणाम सामने आये थे और पार्टी अब तक के इतिहास में सबसे कम सीटों पर सिमट गयी थी। पार्टी कार्यकर्ताओं को भरोसा है कि खुद के बूते लोकसभा चुनाव में उतरने के फैसले से कांग्रेस कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ना तय है।

वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस को केवल रायबरेली और अमेठी संसदीय क्षेत्र में मिली जीत से ही संतोष करना पड़ा था जबकि करीब एक दर्जन सीटों पर उसके उम्मीदवार दूसरे नम्बर पर रहे थे। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि कांग्रेस राज्य में पुन:प्रवर्तन के रास्ते पर निकल पड़ी है। वर्ष 2004 और 2009 में कांग्रेस का प्रदर्शन प्रदेश में ठीक ठाक था और 2019 में पार्टी सभी को चौकाने के लिये कमर कस चुकी है। उन्होने कहा कि प्रदेश में भाजपा विरोधी लहर चरम पर है। लोग महसूस करते है कि केंद्र में भाजपा का एकमात्र विकल्प कांग्रेस है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker