पाकिस्तान

26/11 आतंकी हमला: पाक अदालत ने सुनवाई अस्थाई रुप से रोकी, जानिए इसकी वजह

 पाकिस्तान की एक अदालत ने 26 नवंबर 2008 के मुंबई हमला मामले की सुनवाई अस्थाई रुप से रोक दी है ताकि अभियोजन पक्ष और गवाह पेश कर सके।

इस्लामाबादः पाकिस्तान की एक अदालत ने 26 नवंबर 2008 के मुंबई हमला मामले की सुनवाई अस्थाई रुप से रोक दी है ताकि अभियोजन पक्ष और गवाह पेश कर सके। नवंबर 2008 में कराची से नाव के जरिये मुंबई गए लश्कर-ए-तैयबा के दस आतंकवादियों ने भारत की आर्थिक राजधानी में समन्वित हमले किए थे, जिसमें 166 लोगों की मौत हो गई थी और 300 से अधिक लोग घायल हुए थे। पाकिस्तान की आतंकवाद रोधी एक अदालत में लश्कर के सात सदस्यों के खिलाफ 10 साल से अधिक समय से चल रहे मुकदमे में ज्यादा प्रगति नहीं हुई है, क्योंकि पाकिस्तान उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत ना होने का दावा करता है। इस्लामाबाद उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने मंगलवार को संघीय जांच एजेंसी की उस याचिका पर सुनवाई की जिसमें आतंकवाद रोधी अदालत में जारी सुनवाई पर रोक लगाने की मांग की गई थी।

इस खंडपीठ में न्यायमूर्ति आमिर फारुक और न्यायमूर्ति मोहसिन अख्तर कियानी शामिल हैं।एक समाचार पत्र की खबर के मुताबिक, अदालत ने सुनवाई पर एक सप्ताह की रोक लगाई ताकि अभियोजक 19 में से कुछ गवाहों को गवाही देने के लिए समन जारी कर सकें। सुनवाई के दौरान संघीय जांच एजेंसी के अभियोजक अकरम कुरैशी अदालत में पेश हुए। न्यायमूर्ति कियानी ने कहा कि कई गवाह डर के कारण पेश नहीं हो रहे, जबकि कुछ अन्य के ठिकानों का पता ही नहीं चल पाया है। संघीय जांच एजेंसी के अभियोजक ने पीठ को बताया कि कई गवाहों का पता लगा लिया गया है। इस पर न्यायमूर्ति कियानी ने पूछा कि क्या वे गवाह अदालत में पेश होंगे।

कुरैशी ने कहा कि उनमें से कुछ गवाहों का पता लगा लिया गया है और वे अदालत में पेश होने के लिये तैयार हैं। न्यायमूर्ति आमिर फारुक ने निचली अदालत में सुनवाई की अगली तारीख के बारे में पूछा, जिसपर संघीय जांच एजेंसी के अभियोजक ने बताया कि आतंकवाद रोधी अदालत में मामले पर सुनवाई की तारीख 23 जनवरी तय की गई है। साथ ही उन्होंने सुनवाई पर रोक के लिए अनुरोध किया। अदालत ने अनुरोध स्वीकार कर आतंकवाद रोधी अदालत की सुनवाई को अगले हफ्ते तक निलंबित कर दिया और रजिस्ट्रार को मामले की सुनवाई अगले सप्ताह तय करने का निर्देश दिया। लश्कर के जिन सात सदस्यों के खिलाफ मुकदमा चल रहा है उनमें जकीउर्रहमान लखवी, अब्दुल वाजिद, मजहर इकबाल, हम्माद अमीन सादिक, शाहिद जमील रियाज, जमील अहमद और यूनिस अंजुम शामिल हैं. इन लोगों पर हत्या के लिये उकसाने, हत्या के प्रयास, मुंबई हमलों के लिए योजना बनाने और उसे अंजाम देने के आरोप 2009 से लगे हैं। लखवी को छोड़कर छह अन्य आरोपियों को रावलपिंडी में उच्च सुरक्षा वाली अदियाला जेल में रखा गया है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker